कैकूबाद (1287 – 1290 ई.) | Muiz ud din Qaiqabad Mamluk dynasty (ग़ुलाम वंश) History in Hindi

मुइज़ उद दीन कैकूबाद (शासनकाल 1287 – 1290 ई.) मामलुक वंश (गुलाम वंश) का दसवां सुल्तान था।
वे बंगाल के स्वतंत्र सुल्तान बुगरा खान के पुत्र थे  साथ ही गयासुद्दीन बलबन (1266-87) के पोते थे।

1286 में मंगोलों के हाथों में अपने बेटे मुहम्मद की मृत्यु के बाद गयासुद्दीन बलबन सदमे की अपरिवर्तनीय स्थिति में था। अपने अंतिम दिनों में उन्होंने अपने बेटे बुघरा खान, जो उस समय बंगाल के राज्यपाल थे। उनकों अपने साथ रहने के लिए कहा, लेकिन अपने पिता के कठोर स्वभाव के कारण वह बंगाल भाग गए। आखिरकार, बलबन ने अपने पोते और मुहम्मद के बेटे काय खुसरो को अपना उत्तराधिकारी चुना। हालाँकि, जब बलबन की मृत्यु हुई, तो दिल्ली के कोतवाल फखर-उद-दीन ने नामांकन को अलग कर दिया और बुगरा ख़ान के पुत्र मुइज़ उद दीन कैकूबाद को शासक बनने के लिए चुना। जब वह केवल 17 साल का था
कैकुबाद ने गैर तुर्क सरदार जलालुद्दीन खिलजी को अपना सेनापति बनाया जिसका तुर्क सरदारों पर बुरा प्रभाव पड़ा उन्होंने बदला लेने की सोची पर कैकुबाद को लकवा मार गया और वह कार्यों में अक्षम हो गया ।

चार साल के बाद, 1290 में उनकी हत्या जलालुद्दीन खिलजी ने कर दी थी। उनके नवजात बेटे कयूमर्स की भी हत्या कर दी गई, गुलाम वंश को समाप्त कर दिया और खिलजी क्रांति को उकसाया।

मुइज़ उद दीन कैकूबाद ने सोने, चांदी, तांबे और बिलोन में सिक्के चलाए।

2 Replies to “कैकूबाद (1287 – 1290 ई.) | Muiz ud din Qaiqabad Mamluk dynasty (ग़ुलाम वंश) History in Hindi”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *