Hindi Story | राजुला-मालूशाही की प्रेम कथा | लोक कथाएँ #32

उत्तराखंड की लोक गाथाओं में गाई जाने वाली 15वीं सदी की अनोखी प्रेम कथा है राजुला-मालूशाही की। कहते हैं कुमाऊं के पहले राजवंश कत्यूर से…

View More Hindi Story | राजुला-मालूशाही की प्रेम कथा | लोक कथाएँ #32

Hindi Story | हाथियों का गणित | लोक कथाएँ #31

सेठ घनश्याम दास बहुत बड़ी हवेली में रहता था। उसके तीन लड़के थे। पैसा, नौकर, चाकर, घोड़ा गाड़ी तो थी ही, मगर उसे अपने ख़ज़ाने…

View More Hindi Story | हाथियों का गणित | लोक कथाएँ #31

Hindi Story | स्वर्ग का चाचा | लोक कथाएँ #30

बहुत पहले की बात है। धरती पर दो सालों तक बिलकुल वर्षा नहीं हुई। अकाल पड़ गया। अपने तालाब को सूखता देख कर मेढ़क को…

View More Hindi Story | स्वर्ग का चाचा | लोक कथाएँ #30

Hindi Story | बकरी और सियार | लोक कथाएँ #29

एक बकरी थी। रोज़ सुबर जंगल चली जाती थी – सारा दिन जंगल में चरती और जैसे ही सूर्य विदा लेते इस धरती से, बकरी…

View More Hindi Story | बकरी और सियार | लोक कथाएँ #29

Hindi Story | लालच का फल | लोक कथाएँ #28

एक गांव में एक समृद्ध व्यक्ति रहता था. उसके पास धातु से बने हुए कई बरतन थे. गांव के लोग शादी आदि के अवसरों पर…

View More Hindi Story | लालच का फल | लोक कथाएँ #28