त्रिया चरित्र – मुंशी प्रेमचंद की प्रसिद्ध कहानी | Triya Charitra by Munshi Premchand

सेठ लगनदास जी के जीवन की बगिया फलहीन थी। कोई ऐसा मानवीय, आध्यात्मिक या चिकित्सात्मक प्रयत्न न था जो उन्होंने न किया हो। यों शादी…

View More त्रिया चरित्र – मुंशी प्रेमचंद की प्रसिद्ध कहानी | Triya Charitra by Munshi Premchand

तेंतर – मुंशी प्रेमचंद की प्रसिद्ध कहानी | Tantar by Munshi Premchand

आखिर वही हुआ जिसकी आंशका थी; जिसकी चिंता में घर के सभी लोग और विषेशत: प्रसूता पड़ी हुई थी। तीनो पुत्रो के पश्चात् कन्या का…

View More तेंतर – मुंशी प्रेमचंद की प्रसिद्ध कहानी | Tantar by Munshi Premchand

ज्योति – मुंशी प्रेमचंद की प्रसिद्ध कहानी | Jyoti by Munshi Premchand

विधवा हो जाने के बाद बूटी का स्वभाव बहुत कटु हो गया था। जब बहुत जी जलता तो अपने मृत पति को कोसती-आप तो सिधार…

View More ज्योति – मुंशी प्रेमचंद की प्रसिद्ध कहानी | Jyoti by Munshi Premchand

जेल – मुंशी प्रेमचंद की प्रसिद्ध कहानी | Jail by Munshi Premchand

मृदुला मैजिस्ट्रेट के इजलास से जनाने जेल में वापस आयी, तो उसका मुख प्रसन्न था। बरी हो जोने की गुलाबी आशा उसके कपोलों पर चमक…

View More जेल – मुंशी प्रेमचंद की प्रसिद्ध कहानी | Jail by Munshi Premchand

जुलूस – मुंशी प्रेमचंद की प्रसिद्ध कहानी | Julus by Munshi Premchand

पूर्ण स्वराज्य का जुलूस निकल रहा था। कुछ युवक, कुछ बूढ़ें, कुछ बालक झंडियां और झंडे लिये बंदेमातरम् गाते हुए माल के सामने से निकले।…

View More जुलूस – मुंशी प्रेमचंद की प्रसिद्ध कहानी | Julus by Munshi Premchand